Lal Kitab en hindi | Livre rouge en hindi | Livre rouge


Dans l'horoscope de chaque personne, le statut des planètes menaçantes reste différent, mais sur la base de certaines actions, les planètes vous donnent des résultats peu favorables. Comment les fruits malchanceux de la Navagra sont-ils obtenus par les mauvaises actions de la personne, signalons-le:

Lune: La lune donne des résultats peu favorables en raison du harcèlement de femmes respectables, telles que la mère, la grand-mère, la grand-mère, la belle-mère et les femmes qui sont semblables à leur position et qui oppriment les autres.

Mercure: Mercury donne des résultats peu favorables après avoir harcelé une sœur ou une fille, harcelé sa sœur ou sa fille et l'avoir harcelée. Avec cela, Mercure donne des résultats peu favorables, même si cela blesse l'hijra.

Maître: Le gourou donne des résultats peu favorables après avoir harcelé son père, son grand-père, son grand-père, ou harcelé une personne respectée comme lui et harcelé les saints saints.

Soleil : Sun fait du mal au cœur d’une personne (harcèlement), au vol d’impôts de toutes sortes et à l’âme de toutes les créatures.

Vénus: Donner un effet propice au harcèlement de son partenaire de vie, porter des vêtements sales, garder des vêtements sales et déchirés à la maison.

Mars : Faux combat avec frère, tromperie avec frère, commence à avoir des effets néfastes sur Mars. En dépit de cette insulte au frère de sa femme, Mars donne des conséquences malheureuses.

Saturne: Shani Dev donne des résultats peu favorables en se disputant avec Tau et son oncle et en harcelant toute personne travaillant dur, maudissant et mangeant de l'alcool, de la viande avec cela. Certaines personnes ne quittent pas la maison et le magasin après l'avoir prise de la location ou demandent de l'argent à la place, Saturne commence à donner des résultats peu favorables.

Rahu: Rahu est la forme d'un serpent; Par conséquent, en blessant le cœur du serpent, en harcelant le frère aîné ou en insultant le frère aîné, insulter le côté non violent donne à Rahu un effet inquiétant.

Ketu: Ketu n'a pas envie de souffrir le cœur de sa nièce et de son neveu et de s'emparer de leurs droits. Ketu donne des résultats peu encourageants après avoir tué un chien et l'avoir détruit en détruisant un temple ou le drapeau. Rahu-Ketu donne des résultats peu favorables, même en donnant un faux témoignage ou un faux témoignage.

Donc, l'homme devrait vivre sa vie. Personne ne devrait assumer ses propres rôles par harcèlement ou par tromperie. Aucune créature ne devrait être considérée comme y étant soumise, ce qui doit supporter les souffrances néfastes des planètes.

Solution simple selon le livre rouge

Nous savons tous que l'horoscope a un total de douze sabhas, tous les Bhave ont des maîtres différents … Vous pouvez rester dans votre horoscope, quelle maison est mauvaise dans la maison et comment y remédier. Autant que possible, faites les mesures en montrant un horoscope à un expert savant, sinon cela pourrait aussi être dû à un profit.

Selon le livre rouge, les objets liés à la planète
Pour atteindre la première place, portez-la dans le cou
Gardez dans le temple pour la deuxième maison.
Pour atteindre la troisième maison, mettez l'objet à la main.
Agiter dans l'eau pour atteindre la quatrième maison.
Aller à l'école pour la cinquième maison,
Mettre dans le puits pour atteindre dans la sixième maison
Pour la septième maison, appuyez sur la terre.
Presse dans le crématorium pour la huitième maison
Entrez dans le temple pour la neuvième maison
Donner père ou maison du gouvernement pour la dixième maison
Aucune mesure d'onzième esprit
Et gardez les choses liées à la planète sur le toit de la douzième maison.

Tours de livre rouge

Tout d'abord, si le propriétaire de la maison met d'abord une eau de lota sur l'entrée principale de la maison, le chemin d'arrivée de Lakshmi Devi s'ouvre dans la maison.
Si vous voulez le bonheur et le confort dans la maison, la propreté de la maison tous les jours (ne gardez pas de trucs inutiles dans la maison) et 5 agarbatti en donnant au lassi cru Brûlez-le.
Brûler une fournaise à la maison deux fois par jour, la mousse et les émanations de Google protègent l’air supérieur de la maison et la maladie est évacuée.
S'il y a un réservoir d'eau dans l'angle du feu dans votre maison, la dette et la maladie de la maison ne se terminent jamais. Pour éviter cela, placez une ampoule rouge dans ce coin toujours allumé.
Ne jamais garder le sel ouvert.
S'il n'y a pas de bonheur dans la maison, brûlez de l'huile de moutarde sur le peepal et brûlez-le en mettant trois grains de mois noir dans les lampes, faites-en trois le samedi soir.
Accident ou la peur de la chirurgie est de sauver de la maison de la mélasse Hanuman Tanben pot et cette huile de moutarde Ou il est brûlé et il était assis Hanuman Chalisa lire et pudding transfusion est très défensive, donc quatre mardi soir.
S'il y a un problème avec vos frères et soeurs, alors mardi, vous devrez compromettre la quantité de kilos de jaggery dans le sol.
Pour l'éducation des enfants, pour l'éducation du tissu jaune de vingt-cinq mètres, 2 kg de gram dal devraient être plantés dans le temple de Lakshmi-Narayan ji; Faites-le jeudi.
Si la taille est dans le cou, il y a un fil blanc noir dans le pouce des deux jambes.

Gardant l'argent dans la maison conservée du côté nord du placard, Lakshmi change de maison.
Regarder la main gauche remplie dans un pot de vaches Dudh au sol crues le soir a enlevé l'enfant sept fois Monsieur. Et venir à être une intersection ou boire un verre sur une piste de chien sera enlever les impuretés.
Lorsque vous sortez pour un travail à la maison, commencez par la 4ème direction dans la direction opposée, puis passez au travail, le travail deviendra définitivement.
Dans l'intérêt de la paix et de la prospérité de la famille, répartissez chaque jour quatre parties égales du premier pain, une vache, le deuxième chien noir, la troisième vache et placez-le au quatrième carrefour.
7 morceaux de curcuma, 7 grammes de curcuma, une pièce de monnaie exprimée en roupies attachée dans un drap jaune et traversant la voie ferrée. दें,, होने।।
घर में सुख-शान्ति के लिए मिट्टी का लाल रंग का बन्दर, जिसके हाथ खुले हो, घर में सूर्य की तरफ़ पीठ करके रखें, ऐसा रविवार को करे .
बर्तन,-शान्ति,।
हो, आपका, वीरवार शाम को करें।
बुधवार, के, इससे।
अगर किसी को अपनी नौकरी में तबादले या स्थानांतर को लेकर कोई समस्या है तो ताम्बे की गडवी / लोटे में लाल मिर्ची के बीज डालकर स र्य को चढाने से समस्या दूर होती है. यह तक चढाये।

में समृद्धि

में वायव्य वायव्य को भर दें। से रहेगा।

में समृद्धि वास होता है।

में बार बार (मुख) समय ´ शांत चाहिए।

तिल, धनहानि होगी

की।। को दूध दें। में रखें।

आप समृद्धि समृद्धि तो तो

भोज पत्र पर 15

जब तो तो अत्यधिक कठिन होता है। परिस्थितियों से प्रात प्रात से तिलक जाए¡ आपके

करें। होगा होगा।

अचानक धन किन्तु किन्तु यह है।

धन में, प्रयोग।

आर्थिक तो नर (-मादा) दें दें

आप, तो वहाँ लगा चाहिए। अनिवार्य शर्त है।

लक्ष्मी ¡ दिन धन लाभ होगा।

नारियल पर मोली,, कर पूजन करें। जी आएँ। लाभ होगा।

के दें। घर देखें। लाभ होगा।

प्रात: बाहर निकालें।

हंडिया दूसरी हंडिया दें। क्रिया बुधवार को करें। धन जाएगा।

मंगलवार को 11 के पत्ते लें। से 7 पर लिखें। हनुमान `जय जय हनुमान गोसाईं, गुरू देव की ´ 7 लगातार जप करें। गोपनीय रखें। लाभ होगा।

नौकरी तो, 7 का अनाज डालें डालें।

ऋग्वेद (4/32 / 20-21) -`ॐ, दभ्रं भूर्या घेदिन्द्र दित्ससि। भूरिदा त्यसि श्रुत: शूर वृत्रहन्। नो भजस्व राधसि।।´ (लक्ष्मीपते! साधारण साधारण हैं उसकी झोली भर देते हैं. हे भगवान मुझे इस अर्थ संकट से मुक्त कर दो.)

को करें। प्रतिदिन नियमपूर्वक 5 माला श्रद्धा से भगवान् श्रीकृष्ण का ध्यान करके, जप करता रहे -“ॐ क्लीं नन्दादि गोकुलत्राता दाता दारिद्र्यभंजन।सर्वमंगलदाता च सर्वकाम प्रदायक:। श्रीकृष्णाय नम: ॰

॰  भाद्रपद मास के कृष्णपक्ष भरणी नक्षत्र के दिन चार घड़ों में पानी भरकर किसी एकान्त कमरे में रख दें। अगले दिन जिस घड़े का पानी कुछ कम हो उसे अन्न से भरकर प्रतिदिन विधिवत पूजन करते रहें। शेष घड़ों के पानी को घर, आँगन, खेत आदि में छिड़क दें। अन्नपूर्णा देवी सदैव प्रसन्न रहेगीं।

किसी शुभ कार्य के लिए जाने से पहले

• रविवार को पान का पत्ता साथ रखकर जायें। सोमवार को दर्पण में अपना चेहरा देखकर जायें। मंगलवार को मिष्ठान खाकर जायें। बुधवार को हरे धनिये के पत्ते खाकर जायें। गुरूवार को सरसों के कुछ दाने मुख में डालकर जायें। शुक्रवार को दही खाकर जायें। शनिवार को अदरक और घी खाकर जाना चाहिये।

• किसी भी शनिवार की शाम को माह की दाल के दाने लें। उसपर थोड़ी सी दही और सिन्दूर लगाकर पीपल के वृक्ष के नीचे रख दें और बिना मुड़कर देखे वापिस आ जायें। सात शनिवार लगातार करने से आर्थिक समृद्धि तथा खुशहाली बनी रहेगी।

• गृह बाधा की शांति के लिए पश्चिमाभिमुख होकर क्क नमः शिवाय मंत्र का २१ बार या २१ माला श्रद्धापूर्वक जप करें।

• आर्थिक परेशानियों से मुक्ति के लिए गणपति की नियमित आराधना करें। इसके अलावा श्वेत गुजा (चिरमी) को एक शीशी में गंगाजल में डाल कर प्रतिदिन श्री सूक्त का पाठ करें। बुधवार को विशेष रूप से प्रसाद चढ़ाकर पूजा करें।

आर्थिक समस्या के छुटकारे के लिए :

यदि आप हमेशा आर्थिक समस्या से परेशान हैं तो इसके लिए आप 21 शुक्रवार 9 वर्ष से कम आयु की 5 कन्यायों को खीर व मिश्री का प्रसाद बांटें !

घर और कार्यस्थल में धन वर्षा के लिए :

इसके लिए आप अपने घर, दुकान या शोरूम में एक अलंकारिक फव्वारा रखें ! या एक मछलीघर जिसमें 8 सुनहरी व एक काली मछ्ली हो रखें ! इसको उत्तर या उत्तरपूर्व की ओर रखें ! यदि कोई मछ्ली मर जाय तो उसको निकाल कर नई मछ्ली लाकर उसमें डाल दें !

परेशानी से मुक्ति के लिए :

आज कल हर आदमी किसी न किसी कारण से परेशान है ! कारण कोई भी हो आप एक तांबे के पात्र में जल भर कर उसमें थोडा सा लाल चंदन मिला दें ! उस पात्र को सिरहाने रख कर रात को सो जांय ! प्रातः उस जल को तुलसी के पौधे पर चढा दें ! धीरे-धीरे परेशानी दूर होगी !

घर में स्थिर लक्ष्मी के वास के लिए :

चक्की पर गेहूं पिसवाने जाते समय तुलसी के ग्यारह पत्ते गेहूं में डाल दें। एक लाल थैली में केसर के २ पत्ते और थोड़े से गेहूं डालकर मंदिर में रखकर फिर इन्हें भी पिसवाने वाले गेंहू में मिला दें, धन में बरकत होगी और घर में स्थ्रि लक्ष्मी का वास होगा। आटा केवल सोमवार या शनिवार को पिसवाएं।

पैतृक संपत्ति की प्राप्ति के लिए :

घर में पूर्वजों के गड़े हुए धन की प्राप्ति हेतु किसी सोमवार को २१ श्वेत चितकवरी कौड़ियों को अच्छी तरह पीस लें और चूर्ण को उस स्थान पर रखें, जहां धन गड़े होने का अनुमान हो। धन गड़ा हुआ होगा, तो मिल जाएगा।

मकान

जिन व्यक्तियों को लाख प्रयत्न करने पर भी स्वयं का मकान न बन पा रहा हो, वे इस टोटके को अपनाएं। प्रत्येक शुक्रवार को नियम से किसी भूखे को भोजन कराएं और रविवार के दिन गाय को गुड़ खिलाएं। ऐसा नियमित करने से अपनी अचल सम्पति बनेगी या पैतृक सम्पति प्राप्त होगी। अगर सम्भव हो तो प्रात:काल स्नान-ध्यान के पश्चात् निम्न मंत्र का जाप करें। “ॐ पद्मावती पद्म कुशी वज्रवज्रांपुशी प्रतिब भवंति भवंति।।´´

यह प्रयोग नवरात्रि के दिनों में अष्टमी तिथि को किया जाता है। इस दिन प्रात:काल उठ कर पूजा स्थल में गंगाजल, कुआं जल, बोरिंग जल में से जो उपलब्ध हो, उसके छींटे लगाएं, फिर एक पाटे के ऊपर दुर्गा जी के चित्र के सामने, पूर्व में मुंह करते हुए उस पर 5 ग्राम सिक्के रखें। साबुत सिक्कों पर रोली, लाल चन्दन एवं एक गुलाब का पुष्प चढ़ाएं। माता से प्रार्थना करें। इन सबको पोटली बांध कर अपने गल्ले, संदूक या अलमारी में रख दें। यह टोटका हर 6 माह बाद पुन: दोहराएं।

सगे संबंधियों को दिया गया धन वापस प्राप्त करने हेतु :

किसी सगे संबंधी को धन दिया हो और वह वापस नहीं कर रहा हो, तो ऊपर बताई गई विधि की भांति २१ श्वेत चितकबरी कौड़ियों को पीस कर चूर्ण उसके दरबाजे के आगे बिखेर दें। यह क्रिया ४३ दिनों तक करते रहें, वह व्यक्ति आपका धन वापस कर देगा।

कर्ज

॰ व्यक्ति को ऋण मुक्त कराने में यह टोटका अवश्य सहायता करेगा : मंगलवार को शिव मन्दिर में जा कर शिवलिंग पर मसूर की दाल “ॐ ऋण मुक्तेश्वर महादेवाय नम:´´ मंत्र बोलते हुए चढ़ाएं।

॰ जिन व्यक्तियों को निरन्तर कर्ज घेरे रहते हैं, उन्हें प्रतिदिन “ऋणमोचक मंगल स्तोत्र´´ का पाठ करना चाहिये। यह पाठ शुक्ल पक्ष के प्रथम मंगलवार से शुरू करना चाहिये। यदि प्रतिदिन किसी कारण न कर सकें, तो प्रत्येक मंगलवार को अवश्य करना चाहिये।

॰ सोमवार के दिन एक रूमाल, 5 गुलाब के फूल, 1 चांदी का पत्ता, थोड़े से चावल तथा थोड़ा सा गुड़ लें। फिर किसी विष्णुण्लक्ष्मी जी के मिन्दर में जा कर मूर्त्ति के सामने रूमाल रख कर शेष वस्तुओं को हाथ में लेकर 21 बार गायत्री मंत्र का पाठ करते हुए बारी-बारी इन वस्तुओं को उसमें डालते रहें। फिर इनको इकट्ठा कर के कहें की `मेरी परेशानियां दूर हो जाएं तथा मेरा कर्जा उतर जाए´। यह क्रिया आगामी 7 सोमवार और करें। कर्जा जल्दी उतर जाएगा तथा परेशानियां भी दूर हो जाएंगी।

॰ सर्वप्रथम 5 लाल गुलाब के पूर्ण खिले हुए फूल लें। इसके पश्चात् डेढ़ मीटर सफेद कपड़ा ले कर अपने सामने बिछा लें। इन पांचों गुलाब के फुलों को उसमें, गायत्री मंत्र 21 बार पढ़ते हुए बांध दें। अब स्वयं जा कर इन्हें जल में प्रवाहित कर दें। भगवान ने चाहा तो जल्दी ही कर्ज से मुक्ति प्राप्त होगी।

॰ कर्ज-मुक्ति के लिये “गजेन्द्र-मोक्ष´´ स्तोत्र का प्रतिदिन सूर्योदय से पूर्व पाठ अमोघ उपाय है।

॰ अगर निरन्तर कर्ज में फँसते जा रहे हों, तो श्मशान के कुएं का जल लाकर किसी पीपल के वृक्ष पर चढ़ाना चाहिए। यह 6 शनिवार किया जाए, तो आश्चर्यजनक परिणाम प्राप्त होते हैं।

अगर बढ़ाना हो व्यापार-व्यवसाय

अगर आपका व्यापार-व्यवसाय मंदा चल रहा है। किसी भी काम के शुरू करने के बाद उसमें ऐसा लाभ नहीं मिलता जैसा सोच रहे हैं, दुकान खुब सजाधजा कर रखने पर भी उसमें ग्राहक नहीं आते तो अब चिंता की बात नहीं है। हम आपको ऐसे कुछ सिद्ध टोटके बता रहे हैं जिससे थोड़े से प्रयास से आपको बेहतर परिणाम मिलेंगे। लेकिन इन प्रयोगों को करने से पहले आपको मन में कुछ बातें ठाननी पड़ेंगी। एक, हमेशा सत्य बोलेंगे, दूसरों का अहित नहीं करेंगे और तीसरा हमेशा अपना श्रेष्ठतम परिणाम देंगे। जब आप कोई टोटका प्रयोग में ला रहे हों तो इसके बारे में किसी को बताए नहीं, इससे टोटके का प्रभाव कम हो जाता है। इन टोटकों को आजमाइए, लाभ जरूर मिलेगा।

॰ शनिवार को पीपल के पेड़ से एक पत्ता तोड़ लाएं, उसे धूप-बत्ती दिखाकर अपनी दुकान की गादी जिस पर आप बैठते हैं, उसके नीचे रख दें। सात शनिवार तक लगातार ऐसा ही करें। जब गादी के नीचे सात पत्ते इकट्ठे हो जाएं तो उन्हें एक साथ किसी तालाब या कुएं में बहा दें। व्यवसाय चल निकलेगा।

॰ किसी ऐसी दुकान जो काफी चलती हो वहां से लोहे की कोई कील या नट आदि शनिवार के दिन खरीदकर, मांगकर या उठाकर ले आएं। काली उड़द के 10-15 दानों के साथ उसे एक शीशी में रख लें। धूप-दीप से पूजाकर ग्राहकों की नजरों से बचाकर दुकान में रख लें। व्यवसाय खुब चलेगा।

॰ शनिवार को सात हरी मिर्च और सात नींबू की माला बनाकर दुकान में ऐसे टांगें कि उस पर ग्राहक की नजर पड़े।

व्यवसाय

व्यापार स्थल पर किसी भी प्रकार की समस्या हो, तो वहां श्वेतार्क गणपति तथा एकाक्षी श्रीफल की स्थापना करें। फिर नियमित रूप से धूप, दीप आदि से पूजा करें तथा सप्ताह में एक बार मिठाई का भोग लगाकर प्रसाद यथासंभव अधिक से अधिक लोगों को बांटें। भोग नित्य प्रति भी लगा सकते हैं।

यदि आपको लगता है कि आपका कार्य किसी ने बांध दिया है और चाहकर भी उसमें बढ़ोतरी नहीं हो रही है व सब तरफ से मन्दा एवं बाधाओं का सामना करना पड़रहा है। ऐसे में आपको साबुत फिटकरी दुकान में खड़े होकर 31 बार वार दें और दुकान से बाहर निकल कर किसी चौराहे पर जाकर उत्तर दिशा में फेंक कर बिना पीछे देखें वापस आ जाएं। नजरदूर हो जाएगी और व्यापार फिर से पूर्व की भांति चलने लगेगा।

व्यापार व कारोबार में वृद्धि के लिए

एक नीबू लेकर उस पर चार लौंग गाड़ दें और उसे हाथ में रखकर निम्नलिखित मंत्र का २१ बार जप करें। जप के बाद नीबू को अपनी जेब में रख कर जिनसे कार्य होना हो, उनसे जाकर मिलें।

क्क श्री हनुमते नमः

इसके अतिरिक्त शनिवार को पीपल का एक पत्ता गंगा जल से धोकर हाथ में रख लें और गायत्री मंत्र का २१ बार जप करें। फिर उस पत्ते को धूप देकर अपने कैश बॉक्स में रख दें। यह क्रिया प्रत्येक शनिवार को करें और पत्ता बदल कर पहले के पत्ते को पीपल की जड़ में में रख दें। यह क्रिया निष्ठापूर्वक करें, कारोबार में उन्नति होगी।

व्यापार बढाने के लिए :

शुक्ल पक्ष में किसी भी दिन अपनी फैक्ट्री या दुकान के दरवाजे के दोनों तरफ बाहर की ओर थोडा सा गेहूं का आटा रख दें ! ध्यान रहे ऐसा करते हुए आपको कोई देखे नही !

पूजा घर में अभिमंत्रित श्र्री यंत्र रखें !

शुक्र्वार की रात को सवा किलो काले चने भिगो दें ! दूसरे दिन शनिवार को उन्हें सरसों के तेल में बना लें ! उसके तीन हिस्से कर लें ! उसमें से एक हिस्सा घोडे या भैंसे को खिला दें ! दूसरा हिस्सा कुष्ठ रोगी को दे दें और तीसरा हिस्सा अपने सिर से घडी की सूई से उल्टे तरफ तीन बार वार कर किसी चौराहे पर रख दें ! यह प्रयोग 40 दिन तक करें ! कारोबार में लाभ होगा !

कारोबार में नुकसान हो रहा हो या कार्यक्षेत्र में झगडा हो रहा हो तो :

यदि उपरोक्त स्थिति का सामना हो तो आप अपने वज़न के बराबर कच्चा कोयला लेकर जल प्रवाह कर दें ! अवश्य लाभ होगा !

पढाई में याददास्त बढाने का टोटका

याददास्त कोई हौवा नही है,कि याद होता नही है,और याद होता नही है तो पढाई बेकार हो जाती है,परीक्षा में परिणाम नकारात्मक आता है,और दिमाग का एक कौना मानने लगता है कि यह पढाई बेकार है,इसे छोड कर कोई जीवन यापन का काम कर लेना चाहिये,और इस बेकार के झमेले को छोड देना चाहिये,लेकिन नही अगर वास्तव मे आपको पढने का चाव है और आप चाहते है कि आपका परिणाम भी उन्ही लोगों की तरह से आये जैसे कि ब्रिलियेंन्ट बच्चों का आता है,तो इस टोटके को अंजवा लीजिये।

शाम को खाना खा कर बायीं करवट ढाई घंटे के लिये लेट जाइये,फ़िर ढाई घंटे दाहिनी करवट लेट जाइये,और ढाई घंटे उठकर सीधे बैठ कर पढना चालू कर दीजिये,यह क्रम लगातार चालू रखिये,देखिये कि जो टापिक कभी याद नही होते थे,इतनी अच्छी तरह से याद हो जायेंगे कि खुद को विश्वास ही नहीं होगा।

अगर आपका प्रमोशन नहीं हो रहा तो :

॰ गुरूवार को किसी मंदिर में पीली वस्तुये जैसे खाद्य पदार्थ, फल, कपडे इत्यादि का दान करें !

॰ हर सुबह नंगे पैर घास पर चलें !

॰ नौकरी जाने का खतरा हो या ट्रांसफर रूकवाने के लिए :

॰ पांच ग्राम डली वाला सुरमा लें ! उसे किसी वीरान जगह पर गाड दें ! ख्याल रहे कि जिस औजार से आपने जमीन खोदी है उस औजार को वापिस न लायें ! उसे वहीं फेंक दें दूसरी बात जो ध्यान रखने वाली है वो यह है कि सुरमा डली वाला हो और एक ही डली लगभग 5 ग्राम की हो ! एक से ज्यादा डलियां नहीं होनी चाहिए !

ट्रांसफ़र करवाने का उपाय

कार्य स्थान पर जाने के बाद पैर धोकर अपने स्थान पर बैठना चाहिये,पिसी हल्दी को बहते पानी में बहाना चाहिये।

यदि आपको सही नौकरी मिलने में दिक्कत आ रही हो तो :

॰ कुएं में दूध डालें! उस कुएं में पानी होना चहिए !

॰ काला कम्बल किसी गरीब को दान दें !

॰ 6 मुखी रूद्राक्ष की माला 108 मनकों वाली माला धारण करें जिसमें हर मनके के बाद चांदी के टुकडे पिरोये हों !

खाना पचाने का टोटका

अधिकतर बैठे रहने से या खाना खाने के बाद मेहनत नही करने से भोजन पच नही पाता है और पेट में दर्द या पेट फ़ूलने लगता है,खाना खाने के बाद तुरंत बायीं करवट लेट जाइये,खाना आधा घन्टे में अपनी जगह बनाकर पचने लगेगा और अपान वायु बाहर निकल जायेगी।

ईश्वर का दर्शन करने के लिये टोटका

शाम को एकान्त कमरे में जमीन पर उत्तर की तरफ़ मुंह करके पालथी मारकर बैठ जाइये,दोनों आंखों को बन्द करने के बाद आंखों की द्रिष्टि को नाक के ऊपर वाले हिस्से में ले जाने की कोशिश करिये,धीरे धीरे रोजाना दस से बीस मिनट का प्रयोग करिये,लेकिन इस काम को करने के बीच में किसी भी प्रकार के विचार दिमाग में नही लाने चाहिये,आपको आपके इष्ट का दर्शन सुगमता से हो जायेगा।अपने पूर्वजों की नियमित पूजा करें। प्रति माह अमावस्या को प्रातःकाल ५ गायों को फल खिलाएं।

मुकदमें में विजय पाने के लिए :

यदि आपका किसी के साथ मुकदमा चल रहा हो और आप उसमें विजय पाना चाहते हैं तो थोडे से चावल लेकर कोर्ट/कचहरी में जांय और उन चावलों को कचहरी में कहीं पर फेंक दें ! जिस कमरे में आपका मुकदमा चल रहा हो उसके बाहर फेंकें तो ज्यादा अच्छा है ! परंतु याद रहे आपको चावल ले जाते या कोर्ट में फेंकते समय कोई देखे नहीं वरना लाभ नहीं होगा ! यह उपाय आपको बिना किसी को पता लगे करना होगा !

प्रेम विवाह में सफल होने के लिए :

यदि आपको प्रेम विवाह में अडचने आ रही हैं तो :

शुक्ल पक्ष के गुरूवार से शुरू करके विष्णु और लक्ष्मी मां की मूर्ती या फोटो के आगे “ऊं लक्ष्मी नारायणाय नमः” मंत्र का रोज़ तीन माला जाप स्फटिक माला पर करें ! इसे शुक्ल पक्ष के गुरूवार से ही शुरू करें ! तीन महीने तक हर गुरूवार को मंदिर में प्रशाद चढांए और विवाह की सफलता के लिए प्रार्थना करें !

नौकर न टिके या परेशान करे तो :

हर मंगलवार को बदाना (मीठी बूंदी) का प्रशाद लेकर मंदिर में चढा कर लडकियों में बांट दें ! ऐसा आप चार मंगलवार करें !

धन प्राप्ति के कुछ अचूक टोटके

संसार में रहकर गृहस्थ जीवन की सफलता के लिए सुख-समृद्धि का होना निहायत ही जरूरी है। धन-समृद्धि को अर्जित करने के लिए प्रबल पुरुषार्थ यानि कि ईमानदारी पूर्वक कठोर परिश्रम तो आवश्यक है ही। किंतु साथ ही कुछ जांचे-परखे और कारगर उपायों जिन्हें टोने-टोटके के रूप में जाना जाता है को भी आजमाना चाहिये।

1. हर पूर्णिमा को सुबह पीपल के वृक्ष पर जल चढ़ाएं।
2. तुलसी के पौधे पर गुरुवार को पानी में थोड़ा दूध डालकर चढ़ाएं।
3. यदि आपको बरगद के पेड़ के नीचे कोई छोटा पौधा उगा हुआ नजर आ जाए तो उसे उखाड़कर अपने घर में लगा दें।
4. गूलर की जड़ को कपड़े में बांधकर उसे ताबीज में डालकर बाजु पर बांधे।
5. पीपल के वृक्ष की छाया में खड़े होकर लोहे के पात्र में पानी लेकर उसमें दूध मिलाकर उसे पीपल की जड़ में डालने से घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है और घर में लक्ष्मी का स्थाई निवास होता है।
6. धन समृद्धि की देवी लक्ष्मी को प्रति एकादशी के दिन नौ बत्तियों वाला शुद्ध घी का दीपक लगाएं।
7. घर के मुख्य प्रवेश द्वार पर तांबे के सिक्के को लाल रंग के नवीन वस्त्र में बांधने से घर में धन, समृद्धि का आगमन होता है।
8. शनिवार के दिन कृष्ण वर्ण के पशुओं को रोटी खिलाएं।

Tirage Tarot Amour Gratuit Immédiat


Carte Voyance Amour Gratuit Ou Tchat Gratuit Voyance

Lal Kitab en hindi | Livre rouge en hindi | Livre rouge
4.5 (96%) 45 votes